Breaking News

Budhwar Ke Upay: केसर का यह उपाय बदल देगा आपकी किस्मत, बस बुधवार के दिन करें ये काम

Budhwar Ke Upay: शुभ फलों की प्राप्ति के लिए, अपने बिजनेस की गति को आगे बढ़ाने के लिए, जीवन में सफलता पाने के लिए बुधवार के दिन आपको कौन से उपाय करने चाहिए ये सब जानिए आचार्य इंदु प्रकाश से।

Budhwar Ke Upay: 19 अक्टूबर को कार्तिक कृष्ण पक्ष की नवमी तिथि और बुधवार का दिन है। नवमी तिथि दोपहर 2 बजकर 13 मिनट तक रहेगी , उसके बाद दशमी तिथि लग जायेगी।  शाम 5 बजकर 33 मिनट तक साध्य योग रहेगा। यदि आपको किसी से विद्या या कोई विधि सीखनी हो तो यह योग अति उत्तम है। इस योग में कार्य सीखने या करने में खूब मन लगता है और पूर्ण सफलता मिलती है। साथ ही आज सुबह 8 बजकर 2 मिनट तक पुष्य नक्षत्र रहेगा, उसके बाद आश्लेषा नक्षत्र लग जायेगा। इस दौरान शुभ फलों की प्राप्ति के लिए, अपने बिजनेस की गति को आगे बढ़ाने के लिए, दूसरों के मुकाबले अपने बिजनेस की नींव को मजबूत करने के लिए, दाम्पत्य जीवन में प्यार बढ़ाने के लिए, जिन्दगी में हमसफर का साथ हमेशा बनाए रखने के लिए, अपने कामों की सफलता सुनिश्चित करने के लिए, जीवन में सुख-समृद्धि बनाये रखने के लिए, अपनी आर्थिक, सामाजिक स्थिति में सुधार के लिए, साथ ही वास्तु दोषों के प्रभाव से बचाव के लिए, ऑफिस में पैसों को लेकर चल रही खराब परिस्थितियां से छुटकारा पाने के लिए, बच्चों के कल्याण के लिए, उनकी समृद्धि के लिए, अपने खर्चों पर कंट्रोल करने के लिये, अपनी वाणी के दम पर दूसरों का विश्वास जीतने के लिए और जीवन की गति को यूं ही सुगम तरीके से आगे बढ़ते देखने के लिए आपको क्या उपाय करने चाहिए, ये सब जानिए आचार्य इंदु प्रकाश से।

  1. अगर आप अपने बिजनेस की गति को और आगे बढ़ाना चाहते हैं, दूसरों के मुकाबले अपने बिजनेस की नींव को अधिक मजबूत करना चाहते हैं तो इस दिन आप मिट्टी का एक खाली घड़ा लीजिये और उस पर काजल का टीका लगाइए। अब उस खाली घड़े पर ढक्कन लगाकर किसी बहते जल के स्त्रोत में प्रवाहित कर दें।  ऐसा करने से आपके बिजनेस की गति आगे बढ़ेगी और दूसरों के मुकाबले आपके बिजनेस की नींव अधिक मजबूत होगी।
  2. अगर आप अपने दाम्पत्य जीवन में प्यार बढ़ाना चाहते हैं और जिन्दगी में अपने हमसफर का साथ हमेशा बनाए रखना चाहते हैं तो इस दिन नागकेसर का एक फूल लेकर आएं। आप चाहें तो ताजा फूल लेकर आयें या फिर पंसारी की दुकान से भी आप नागसकेर का फूल ला सकते हैं। अब उस फूल पर एक बूंद शहद लगाएं। इसके बाद उस नागकेसर के फूल को देवी दुर्गा को अर्पित कर दें और देवी मां से अपने दाम्पत्य जीवन में प्यार बढ़ाने के लिये और अपने हमसफर का साथ हमेशा बनाये रखने के लिये प्रार्थना करें। ऐसा करने से आपके दाम्पत्य जीवन में प्यार बढ़ेगा और जिन्दगी में हमसफर का साथ हमेशा बना रहेगा।
  3. अगर आप अपने कामों में सफलता सुनिश्चित करना चाहते हैं तो इस दिन 250 ग्राम हरे मोटे मूंग लें और उन्हें देवी दुर्गा के मन्दिर में दान कर दें। साथ ही अगर हो सके तो इस दिन दुर्गा सप्तशती का पाठ भी करें। अगर पूरा पाठ आप इस दिन न कर पाएं तो दुर्गा सप्तशती के केवल एक दो पृष्ठ का पाठ करें। बाकी बचे पृष्ठों को थोड़ा-थोड़ा करके आप अगले कुछ दिनों में पूरा कर लें। ऐसा करने से आपको अपने कामों में सफलता जरूर प्राप्त होगी।
  4. अगर आप अपने जीवन में सुख-समृद्धि बनाए रखना चाहते हैं तो उसके लिए आपको इस दिन नागकेसर के पेड़ को प्रणाम करना चाहिए और उसकी विधि- पूर्वक पूजा करनी चाहिए। अगर आपको नागकेसर का पेड़ न मिले तो पंसारी की दुकान से नागकेसर की सूखी लकड़ी का एक टुकड़ा या नागकेसर का एक सूखा फूल लाकर उसे प्रणाम करें और आज पूरा दिन उसे अपने पास रखें। अगले दिन सुबह उठकर स्नान आदि के बाद उस लकड़ी के टुकड़े या फूल को किसी बहते जल के स्त्रोत में प्रवाहित कर दें। ऐसा करने से आपके जीवन में सुख-समृद्धि बनी रहेगी।
  5. अगर आप अपनी आर्थिक, सामाजिक या अन्य स्थितियों में सुधार करना चाहते हैं तो इस दिन एक तांबे का पैसा या तांबे का कोई एक छोटा-सा टुकड़ा लीजिये और आज पूरा दिन उसे अपने पास रखिये। बाद में आप चाहें तो उसे अपनी तिजोरी में भी रख सकते हैं। ऐसा करने से आपकी आर्थिक, सामाजिक स्थिति के अलावा अन्य स्थितियों में भी सुधार होगा।
  6. अगर आप आज के दिन किसी विशेष काम से घर से कहीं बाहर जा रहे हैं तो उस काम में अपनी सफलता सुनिश्चित करने के लिए इस दिन आप घर से बाहर जाते समय केसर का तिलक अपने मस्तक पर लगाएं। साथ ही दुर्गा मां का आशीर्वाद लेकर जाएं। ऐसा करने से आप जिस भी काम के लिये घर से बाहर जा रहे हैं, उस काम में आपकी सफलता सुनिश्चित होगी।
  7. अगर आपके ऑफिस में पैसों को लेकर परिस्थितियां कुछ ठीक नहीं चल रही है तो उन परिस्थितियों को ठीक करने के लिए इस दिन आप पंसारी की दुकान से एक नागकेसर का फूल लेकर आयें और आज के दिन उसे अपने मन्दिर में स्थापित करें। अब उसकी विधि-पूर्वक रोली-चावल आदि से पूजा करें। पूजा के बाद इस दिन पूरा दिन उस फूल को मन्दिर में ही रखा रहने दें। अगले दिन सुबह स्नान आदि से निवृत्त होकर उस फूल को वहां से उठा लें और अपने ऑफिस के कैशबॉक्स में रख दें। ऐसा करने से आपके ऑफिस में पैसों को लेकर चल रही खराब परिस्थितियां जल्द ही ठीक होगी।
  8.  अपने बच्चों के कल्याण के लिए, उनकी समृद्धि के लिए इस दिन आपको देवी दुर्गा की उपासना करना चाहिए। इस दिन सुबह स्नान आदि के बादआपको देवी दुर्गा के आगे घी का दीपक जलाना चाहिए और साथ ही इस मंत्र का जाप करना चाहिए। मंत्र है- ‘सर्वमङ्गलमाङ्गल्ये शिवे सर्वार्थसाधिके। शरण्ये त्र्यम्बके गौरि नारायणि नमोऽस्तु ते॥’ इस दिन देवी दुर्गा की उपासना करने और इस मंत्र का जाप करने से आपके बच्चों का कल्याण होगा और उनको समृद्धि मिलेगी।
  9. अगर आप अपने काम में बहुत अधिक मेहनत करते हैं और आपकी आमदनी भी अच्छी होती है, लेकिन आपकी मेहनत और आमदनी के अनुसार आपकी बचत नहीं है, आपके हाथ से आए दिन कुछ न कुछ खर्चा हो जाता है, तो ऐसी स्थिति से बाहर निकलने के लिये आज के दिन एक नागकेसर का फूल लें। अगर ताजा फूल मिल जाये तो अच्छा है, वरना पंसारी की दुकान से नागकेसर का एक सूखा फूल लाकर उसे लाल कपड़े में लपेट लीजिये और अपने पास उस फूल को रखिये। इस प्रकार कुछ दिनों तक अपने पास नागकेसर का फूल रखने से आपको असर देखने को मिलेगा, आपकी आमदनी से बचत होगी और साथ ही आपके खर्चों पर कंट्रोल होगा।
  10. अगर आपकी संतान अपना खुद का कोई बिजनेस खोलना चाहती है या आप उसका बिजनेस खुलवाना चाहते हैं, लेकिन उसमें बिजनेस की इतनी समझ नहीं है तो अपनी संतान के अंदर वो समझ डेवलप करने के लिए इस दिन आपको साफ, शुद्ध मिट्टी लेनी चाहिए। अब उस मिट्टी को पानी की सहायता से गाढा करके उससे 27 छोटी-छोटी गोलियां बनाएं और उन्हें अच्छे से सुखा लें। अब उन गोलियों को आज से लेकर अगले 27 दिनों तक एक-एक करके अपनी संतान के हाथों से घर के मन्दिर में ही रखवाएं और बाद में जब मौका मिले उन गोलियों को किसी मंदिर या पेड़ के पास रख दें। ऐसा करने से आपके संतान का बौद्धिक विकास होगा। साथ ही वे अपना व्यवसाय करने में सफल होंगे।

About Rahul Saini

Check Also

शहीदों की विधवा औरतें खत्म करना चाहती हैं अपनी जिंदगी, सामने आई चौंकाने वाली वजह

Pulwama attack martyrs widows: भारत में सुरक्षाबलों के खिलाफ हुए वीभत्स पुलवामा हमले के वर्षों बाद …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *