Breaking News

India-America: भारतीय फार्मा उद्योग अमेरिका में स्वास्थ्य सेवा को किफायती बना रहा है: संधू

India-America: संधू ने कहा कि भारत का सामाजिक-आर्थिक योजनाओं को लागू करने के मामले में समान दृष्टिकोण था।

India-America: अमेरिका में भारत के राजदूत तरनजीत सिंह संधू ने कहा कि भारत का नवाचार दुनियाभर में उत्पादों और सेवाओं को किफायती बनाता है तथा स्थिरता लाने के प्रयासों में योगदान देता है। न्यूयॉर्क में शुक्रवार को डिजिटल माध्यम से ‘नवाचार के लिए भारत-अमेरिका साझेदारी’ विषय पर आधारित एक सम्मेलन का उद्घाटन करते हुए संधू ने कहा कि नए विचार और नवाचार भारत में एक मजबूत उद्यमशील संस्कृति को जन्म भी दे रहे हैं। सम्मेलन का आयोजन नॉर्थ-ईस्टर्न यूनिवर्सिटी और भारत के महावाणिज्य दूतावास द्वारा संयुक्त रूप से किया गया था। संधू ने कहा कि भारत-अमेरिका साझेदारी में नवोन्मेष की दुनिया को गति देने की अनूठी ताकत है। उन्होंने कहा, “हमने स्वच्छ ऊर्जा साझेदारी, वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला को अधिक लचीला बनाने और नयी व उभरती प्रौद्योगिकियों का इस्तेमाल करने की दिशा में पहले से ही निवेश कर रखा है। रणनीतिक साझेदार के रूप में हमारे पास नवाचार, निर्माण और समृद्धि हासिल करने के लिए एक स्पष्ट रोडमैप है।”

‘नवाचार में उत्कृष्टता लाने , उसे गति देने में सफल रहे’

संधू ने कहा, “हम अपने नवाचार में उत्कृष्टता लाने और उसे गति देने में सफल रहे हैं। मिसाल के तौर पर हम अपनी आबादी का टीकाकरण करने के प्रयासों के तहत दो अरब से अधिक खुराक लगा चुके हैं। हम टीकों का उत्पादन बढ़ाने में भी कामयाब रहे हैं। किसी भी फार्मा विशेषज्ञ से पूछें, वह आपको बताएगा कि यह कार्य कितना कठिन था।” संधू ने कहा कि भारत का सामाजिक-आर्थिक योजनाओं को लागू करने के मामले में समान दृष्टिकोण था, चाहे वह किसी भी वर्ग के लिए 44 करोड़ से अधिक बैंक खाते खोलना हो, 1,300 करोड़ से अधिक लोगों को विशिष्ट पहचान संख्या या आधार नंबर प्रदान करना हो या 90 करोड़ रसोई गैस कनेक्शन वितरित करना हो। उन्होंने कहा, “भारतीय नवाचार दुनियाभर में उत्पादों और सेवाओं को किफायती बनाता है।”

संधू ने किया दावा

संधू ने दावा किया कि भारतीय फार्मा उद्योग वास्तव में अपने तरीके से अमेरिका में स्वास्थ्य सेवा को किफायती बना रहा है। उन्होंने रोटावायरस टीके का जिक्र किया, जो अमेरिका में 60 डॉलर प्रति खुराक की दर से तैयार हुआ था। संधू ने कहा, “हमने भारत में रोटावायरस टीके का बड़े पैमाने पर एक डॉलर प्रति खुराक की कीमत पर उत्पादन किया।” उन्होंने कहा, “जयपुर फुट प्रोस्थेटिक्स (कृत्रिम पैर) इसका एक और प्रमुख उदाहरण है। अमेरिका में एक कृत्रिम अंग की कीमत लगभग 10 से 12 हजार डॉलर है, जबकि ‘जयपुर फुट’ सिर्फ 70 डॉलर में उपलब्ध है।” संधू ने कहा, “भारत के नवाचार और विचार स्थिरता लाने के प्रयासों में बड़े पैमाने पर योगदान दे रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वैश्विक समुदाय से ‘मिशन लाइफ’ यानी ‘पर्यावरण के लिए हितकर जीवनशैली” अपनाने का आह्वान किया है।”

About rs

Check Also

शहीदों की विधवा औरतें खत्म करना चाहती हैं अपनी जिंदगी, सामने आई चौंकाने वाली वजह

Pulwama attack martyrs widows: भारत में सुरक्षाबलों के खिलाफ हुए वीभत्स पुलवामा हमले के वर्षों बाद …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *